स्नेह राणा का चमत्कारिक प्रदर्शन, एकमात्र टेस्ट में हार से बचाया/ENGW vs INDW Sneh rana amazing performance saved team india in the only test

0


स्नेह राणा डेब्यू टेस्ट में 4 विकेट और 50+ रन बनाने वाली पहली भारतीय बनीं. (AP)

स्नेह राणा डेब्यू टेस्ट में 4 विकेट और 50+ रन बनाने वाली पहली भारतीय बनीं. (AP)

स्नेह राणा (Sneh Rana) ने डेब्यू टेस्ट (ENGW vs INDW) में शानदार प्रदर्शन किया. एकमात्र टेस्ट के चौथे और अंतिम दिन उन्होंने अर्धशतकीय पारी खेलकर टीम इंडिया को हार से बचाया. स्नेह ने नाबाद 80 रन बनाए. दोनों पारियों में अर्धशतक लगाने वालीं शेफाली वर्मा प्लेयर ऑफ द मैच रहीं.

ब्रिस्टल. भारतीय महिला टीम का मध्यक्रम फिर चरमरा गया, लेकिन निचले क्रम की बदौलत उसने शनिवार को यहां इंग्लैंड के खिलाफ एकमात्र क्रिकेट के चौथे और अंतिम दिन ड्रॉ करा लिया. भारतीय महिला टीम ने 8 विकेट पर 344 रन बनाए और मैच ड्रॉ रहा. पदार्पण कर रहीं स्नेह राणा ने नाबाद 80 रन बनाए. उन्होंने और शिखा पांडे (18 रन) ने आठवें विकेट के लिए 41 रन की अहम साझेदारी निभाई. फिर तानिया भाटिया (44*) के साथ 9वें विकेट के लिए 104 रन की नाबाद साझेदारी की. इंग्लैंड ने पहली पारी में 396 जबकि टीम इंडिया ने 231 रन बनाए थे. ऑफ स्पिनर स्नेह ने 4 विकेट भी लिए थे. वे डेब्यू टेस्ट में अर्धशतक और 4 विकेट लेने वाली पहली भारतीय बनीं.

मैच की दोनों पारियों में अर्धशतक लगाने वालीं भारतीय ओपनर शेफाली वर्मा को प्लेयर ऑफ द मैच चुना गया. उन्होंने पहली पारी में 96 और दूसरी पारी में 63 रन का योगदान दिया. मेजबानों ने भारत को फॉलोऑन दिया था. शीर्ष क्रम ने फिर भारत को अच्छी शुरुआत कराई, पर मध्यक्रम फिर चरमरा गया. इसके बावजूद भारत ने निचले क्रम के बेहतरीन प्रदर्शन की बदौलत दूसरी पारी में आठ विकेट पर 344 रन बनाये और मैच ड्रॉ कराया.

भारत के लिए पांच खिलाड़ियों ने टेस्ट पदार्पण किया जिसमें स्नेह, तानिया, दीप्ति शर्मा और शेफाली वर्मा अपने प्रदर्शन से सभी को लुभाने में सफल रहीं. स्नेह और तानिया ने इस तरह भारत की नौंवे विकेट के लिए 90 रन की रिकार्ड साझेदारी को पीछे छोड़ दिया जो शुभांगी कुलकर्णी और मणिमाला सिंघल के बीच 1986 में इंग्लैंड के खिलाफ बनी थी. स्नेह ने अपनी पारी में 154 गेंद का सामना करते हुए 13 चौके जमाए जबकि तानिया ने छह चौके लगाए. इंग्लैंड की गेंदबाज सोफी एक्लेस्टोन ने दोनों पारियों में 4-4 विकेट हासिल किए जबकि हीथर नाइट और नैट स्किवर ने दोनों पारियों में कुल तीन-तीन विकेट झटके.

दीप्ति और पूनम ने भी अर्धशतकीय पारी खेलीभारत ने एक विकेट पर 83 रन से आगे खेलते हुए लंच तक 171 रन बना लिए थे, जिसमें दीप्ति शर्मा ने 54 रन की संयमित पारी खेली. दीप्ति ने पूनम राउत (83 गेंद में 39 रन) के साथ 72 रन की भागीदारी की लेकिन लंच से पहले आउट हो गईं. लंच के बाद इंग्लैंड ने मेहमान टीम को दो झटके दिए. कप्तान मिताली राज (04) और राउत को सस्ते में आउट कर दिया, जिससे स्कोर पांच विकेट पर 175 रन हो गया. कप्तान मिताली एक्लेस्टोन की गेंद को नहीं पढ़ सकीं जिससे उनके स्टंप उखड़ गये जबकि अच्छी लय में दिख रही राउत स्क्वायर लेग पर सीधा कैच देकर आउट हुईं.

सीनियर खिलाड़ियों का निराशाजनक प्रदर्शन

पूजा वस्त्राकर (12) ने फिर 68वें ओवर में एक्लेस्टोन पर तीन बाउंड्री लगाई, जिसके बाद 71वें ओवर में हीथर नाइट ने उनका विकेट लिया. पहली पारी में महज चार रन बनाने वाली उप कप्तान हरमनप्रीत कौर भी ज्यादा देर क्रीज पर नहीं टिक सकीं और स्लॉग स्वीप शॉट खेलने के प्रयास में एक्लेस्टोन का चौथा शिकार बनीं. शिखा और स्नेह ने मिलकर आठ चौके लगाकर कुछ रन जोड़े. इससे पहले भारत ने सुबह एक विकेट पर 83 रन से आगे खेलना शुरू किया जिसके बाद सलामी बल्लेबाज शेफाली वर्मा 30वें ओवर में एक्लेस्टोन का शिकार बनी. वह अपने रात के 55 रन के स्कोर में आठ रन ही जोड़ सकीं और टीम का स्कोर दो विकेट पर 99 रन हो गया. एक्लेस्टोन के ओवर की पहली गेंद को सीधे छक्के के लिये भेजने के बाद शेफाली अंतिम गेंद पर आउट हुईं, जिनका कैच लाॅन्ग आॅन पर कैथरीन ब्रंट ने लपका।







Source link

Leave A Reply

Your email address will not be published.