Talibani Entered The Gurdwara With Weapons In Kabul Afghanistan – अफगानिस्तान संकट: हथियारों के साथ गुरुद्वारे में घुसे तालिबान के लड़ाके, कई को बनाया बंधक

0


वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, काबुल
Printed by: Jeet Kumar
Up to date Wed, 06 Oct 2021 12:58 AM IST

सार

स्थानीय लोगों ने आरोप लगाया कि तालिबान अधिकारियों ने गुरुद्वारे के सीसीटीवी कैमरों को भी तोड़ दिया। इसके अलावा गुरुद्वारे में भी तोड़फोड़ की गई है।

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

अफगानिस्तान पर कब्जा जमा चुका तालिबान सुधरने वाला नहीं है। अब उसका असली चेहरा सामने लोगों के सामने आने लगा है। तालिबान के लड़ाके काबुल में करता परवन गुरुद्वारे में हथियारों के साथ घुस गए और कई लोगों को बंदी बना लिया। बता दें कि काबुल का करता परवन गुरुद्वारा वही पवित्र स्थान है जहां सिखों के गुरू नानक देव जी आए थे। 

इंडियन वर्ल्ड फोरम के अध्यक्ष पुनीत सिंह चंडोक ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि शांति की बात करने तालिबान की काबुल में एक बार फिर तमाम दावों की पोल खुली है। अज्ञात भारी हथियारों से लैस तालिबान के लोगों के एक समूह ने काबुल स्थित गुरुद्वारे में घुसकर कई लोगों को हिरासत में लिया है।

चंडोक ने कहा कि तालिबान के लड़ाकों गुरुद्वारे में काफी उत्पाद मचाया, उन्होंने मौजूद समुदाय को हिरासत में ले लिया है। स्थानीय लोगों ने आरोप लगाया कि तालिबान अधिकारियों ने गुरुद्वारे के सीसीटीवी कैमरों को भी तोड़ दिया। इसके अलावा गुरुद्वारे में भी तोड़फोड़ की गई है। हमले की खबर मिलने पर स्थानीय गुरुद्वारा प्रबंधन भी मौके पर पहुंचा। 

करता परवन गुरुद्वारा की दुनियाभर के सिखों के लिए खास जगह है जो अफगानिस्तान के उत्तर-पश्चिमी काबुल में है। तालिबान ने इससे पहले अफगानिस्तान के पूर्वी प्रांत स्थित गुरुद्वारे की छत से निशान साहिब-सिख पवित्र ध्वज को हटा दिया था। 

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद यहां अल्पसंख्यकों पर अत्याचार और बर्बरता की खबरे लगातार सामने आ रही हैं। तालिबान अल्पसंख्यकों की धार्मिक और जातीय पहचान के आधार पर हत्याएं कर रहा है। हालांकि तालिबान ने कहा था वह देश के अल्पसंख्यकों की सुरक्षा करेगा लेकिन ऐसा होता नहीं दिख रहा है।

विस्तार

अफगानिस्तान पर कब्जा जमा चुका तालिबान सुधरने वाला नहीं है। अब उसका असली चेहरा सामने लोगों के सामने आने लगा है। तालिबान के लड़ाके काबुल में करता परवन गुरुद्वारे में हथियारों के साथ घुस गए और कई लोगों को बंदी बना लिया। बता दें कि काबुल का करता परवन गुरुद्वारा वही पवित्र स्थान है जहां सिखों के गुरू नानक देव जी आए थे। 

इंडियन वर्ल्ड फोरम के अध्यक्ष पुनीत सिंह चंडोक ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि शांति की बात करने तालिबान की काबुल में एक बार फिर तमाम दावों की पोल खुली है। अज्ञात भारी हथियारों से लैस तालिबान के लोगों के एक समूह ने काबुल स्थित गुरुद्वारे में घुसकर कई लोगों को हिरासत में लिया है।

चंडोक ने कहा कि तालिबान के लड़ाकों गुरुद्वारे में काफी उत्पाद मचाया, उन्होंने मौजूद समुदाय को हिरासत में ले लिया है। स्थानीय लोगों ने आरोप लगाया कि तालिबान अधिकारियों ने गुरुद्वारे के सीसीटीवी कैमरों को भी तोड़ दिया। इसके अलावा गुरुद्वारे में भी तोड़फोड़ की गई है। हमले की खबर मिलने पर स्थानीय गुरुद्वारा प्रबंधन भी मौके पर पहुंचा। 

करता परवन गुरुद्वारा की दुनियाभर के सिखों के लिए खास जगह है जो अफगानिस्तान के उत्तर-पश्चिमी काबुल में है। तालिबान ने इससे पहले अफगानिस्तान के पूर्वी प्रांत स्थित गुरुद्वारे की छत से निशान साहिब-सिख पवित्र ध्वज को हटा दिया था। 

अफगानिस्तान पर तालिबान के कब्जे के बाद यहां अल्पसंख्यकों पर अत्याचार और बर्बरता की खबरे लगातार सामने आ रही हैं। तालिबान अल्पसंख्यकों की धार्मिक और जातीय पहचान के आधार पर हत्याएं कर रहा है। हालांकि तालिबान ने कहा था वह देश के अल्पसंख्यकों की सुरक्षा करेगा लेकिन ऐसा होता नहीं दिख रहा है।



Supply hyperlink

Leave A Reply

Your email address will not be published.