Well being information train throughout being pregnant profit and facet impact deep

0


Train Throughout Being pregnant: इन दिनों, ज्यादातर महिलाएं अपनी गर्भावस्था के दौरान अपनी अतिरिक्त देखभाल करती हैं. और सामान्य प्रसव (Supply) के लिए व्यायाम और उचित स्वास्थ्य बनाए रखने के लिए उत्सुक रहती हैं. गर्भवती महिलाओं के लिए व्यायाम न केवल सुरक्षित है बल्कि यह एक स्वस्थ मां और स्वस्थ बच्चे के लिए ज़रूरी भी है. गर्भावस्था के दौरान नियमित रूप से व्यायाम (Train) करने से आपको फिट और सकारात्मक रहने में मदद मिलती है. यह चिंता को भी दूर करता है. इसलिए, यदि आप व्यायाम करना चाहती हैं, लेकिन इसके बारे में अभी भी संदेह है, तो उन सभी को एक तरफ रख दें और व्यायाम शुरू करें! हम आपको गर्भावस्था के दौरान व्यायाम करने के सभी लाभों के बारे में बताने जा रहे हैं. 

यह भी पढ़ें : प्रेग्नेंसी के दौरान ‘स्पॉटिंग’ का क्या हो सकता है कारण, जानें

पॉश्चर को ठीक करता है

गर्भावस्था के आखिरी चरणों में पेट शरीर के बाकी हिस्सों के अनुपात में अधिक बढ़ता है. नतीजतन, अतिरिक्त वजन के कारण आपका पॉश्चर प्रभावित हो सकता है. उचित पॉश्चर बनाए रखने और फिट रहने के लिए व्यायाम की आवश्यकता होती है.

पीठ दर्द और थकान से लड़ता है

गर्भावस्था के दौरान लगातार अनुचित मुद्रा और उभरे हुए पेट के कारण  पीठ दर्द का हो सकता है, जो हार्मोनल असंतुलन के कारण थकान को बढ़ाता है. व्यायाम करने से आपको पीठ दर्द से बहुत राहत मिलती है और थकान भी कम होती है.

तनाव से राहत देता है

तनाव गर्भावस्था बहुत आम है. हालांकि, यदि तनाव का स्तर अधिक है, तो यह आपके और आपके बच्चे दोनों के लिए हानिकारक होगा। व्यायाम हमें तनाव से मुक्त करता है, मन की शांति प्रदान करता है.

डाइबिटीज (जीडी) को रोकता है

कई महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान गर्भकालीन मधुमेह हो जाता है. इससे मां और बच्चे दोनों के लिए कई जटिलताएं हो सकती हैं. इस दौरान आहार का भी विशेष ध्यान रखना पड़ता है. व्यायाम ब्लड सुगर के स्तर को रोकने और नियंत्रित करने का सबसे अच्छा तरीका है.

यह भी पढ़ें :किशोर बच्चों के लिए जरूरी होता है पोषण वाला ब्रेकफास्ट, जानें क्यों

व्यायाम कब करना सही नहीं है

कुछ स्थिति ऐसी होती है कि जब आपको व्यायाम नहीं करना चाहिए। अगर नीचे दी गई किसी भी समस्या का अनुभव करते हैं, तो अपने व्यायाम को विराम दें और तुरंत अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

  • छाती में दर्द
  • पेट या पैल्विक दर्द
  • निरंतर संकुचन
  • भ्रूण की गति का धीमा होना या न होना
  • हल्का सिरदर्द महसूस होना, मिचली आना
  • योनि से खून आना
  • योनि( वेजाइना) से रिसाव
  • हाथ,चेहरा या टखने में सूजन 
  • सांस फूलना
  • मांसपेशियों में कमजोरी
  • चलने में कठिनाई

गर्भावस्था के दौरान आपका शरीर आपके अंदर एक नई पल रही होती  है. इसलिए आपको हर वो चीज करनी होगी जो उसके लिए बेहतर है.  व्यायाम न केवल आपके बच्चे की मदद करेगा बल्कि गर्भावस्था की पूरी प्रक्रिया को आपके लिए बेहद आसान बना देगा.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

पढ़ें Hindi Information ऑनलाइन और देखें Stay TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी Information in Hindi.



Supply hyperlink

Leave A Reply

Your email address will not be published.