Well being information youngsters language improvement so they’ll discuss early deep

0


The best way to educate your toddler to speak- जन्म के बाद से ही बेबी कुछ ना कुछ आवाज जरूर निकालते हैं. कई बार एक साल के होने के पहले बेबी कुछ शब्द (Phrase) भी बोलने लगते हैं. ये शब्द सिर्फ मामा, दादा ही क्यों ना हो, इसे सुनकर हर पेरेंट्स(Dad and mom) को खुशी मिलती है. लेकिन जब बच्चा थोड़ा बड़ा हो जाता है और सही से नहीं बोलता है, तो पैरेंट्स को चिंता होने लगती है. ऐसा जरूरी नहीं है कि आपके बच्चे में कोई समस्या हो. इसके लिए बच्चे के साथ खास तरह से जुड़ाव बनाना पड़ता है. 

बोलना सीखने की उम्र

0 से  6 माह 

इस उम्र में बच्चे कुछ आवाज निकालते हैं जो सुनने में बहुत अच्छा लगता है. वह अपना नाम जानना शुरू करते हैं और आपकी आवाज पर अपना सिर भी घुमाते हैं.

7 से 12 माह के बच्चे

7 से 12 माह के बीच में बच्चे ‘ना’ का मतलब समझते हैं लेकिन यह जरूरी नहीं कि बच्चे इस दौरान बोलना शुरू कर दें.

यह भी पढ़ें:जानें बच्चे को 6 माह में क्या खिलाएं और क्या न खिलाएं

अपने बच्चे को बोलना सिखाने के लिए इन टिप्स का इस्तेमाल करें

बच्चों को बोलना सिखाने के लिए जरूरी है कि कुछ बातों का ध्यान रखा जाए. इस बात की चिंता करने की जरूरत नहीं है कि आपका बच्चा देर में बोल रहा है. इसके लिए हम कुछ टिप्स आजमा सकते हैं जैसे-

उनके साथ पढ़ें

जितना संभव हो अपने बच्चे के साथ में पढ़ने की कोशिश करें.2016 की रिसर्च के हिसाब से जब हम  बच्चे के लिए कोई किताब पढ़ते हैं. तो उस किताब की फोटो और आपकी आवाज से बच्चे बहुत कुछ सीखने की कोशिश करते हैं. इसलिए छह माह की उम्र से ही बुक पढ़ें.

यह भी पढ़ें: ऑनलाइन पढ़ाई के दौरान बच्‍चों का कम पलक झपकाना बना मुसीबत, पैदा हो रही ये बीमारी

साइन लैंग्वेज में करें बात

हमेशा साइन लैंग्वेज सीखने की जरूरत नहीं होती है. आप अपने बच्चे को कुछ कुछ चीजें सिखा सकते हैं. अक्सर आपने देखा होगा कि बच्चे को अगर आप होंठ पर उंगली लगाते हैं तो  यह समझ में आ जाता है कि चुप होना है. जब आप हाथ से इशारा करते हैं तो बच्चों को समझ में आता है कि आप क्या कह रहे हैं. यह चीजें अपने बच्चों को जरूर सिखाएं.

भाषा सिखाएं 

बच्चा बात नहीं कर रहा है. इसका मतलब यह नहीं है कि आप उससे कुछ सिखाएं नहीं. बहुत कम उम्र से ही बच्चे भाषा सीखना शुरू कर देते हैं. आप अपने बच्चे से जितना ज्यादा बात करेंगे. उनके लिए भाषा सीखना और बोलना उतना ही आसान होगा. जब भी आप अपने बच्चे का डायपर चेंज करें या कपड़े पहनाएं. उनसे उन चीजों के बारे में बात करें.

‘बेबी टॉक’  से बचें

बच्चे जब अपनी तोतली आवाज में बात करते हैं तो अच्छा लगता है. लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि आप भी उनसे उन्हीं की तरह बात करें. बच्चों से जब भी बात करें आप एकदम सही तरीके से बात करें और इससे वह सही और गलत चीजें बोलना सिखाएं.

स्क्रीन टाइम को करें कम

आजकल बच्चे मोबाइल में ज्यादा व्यस्त रहते हैं 2018 में प्रकाशित एक रिसर्च के अनुसार स्क्रीन टाइम की वजह से बच्चों में बोलने की आदत बहुत देर से आती.

(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारियों पर आधारित हैं. Hindi information18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

पढ़ें Hindi Information ऑनलाइन और देखें Reside TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी Information in Hindi.



Supply hyperlink

Leave A Reply

Your email address will not be published.